Shart Shayari – एक पत्थर की भी तस्वीर

एक पत्थर की भी तस्वीर सँवर सकती है,
शर्त ये है कि, सलीक़े से तराशा जाए…!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…