Shart Shayari – मैं अपने दुश्मन के भी

मैं अपने दुश्मन के भी गले लग जाऊँ…
शर्त ये है वो तुझसे मिलकर आया हो…!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…