Shart Shayari – मै आज भी अपने मुकद्दर

मै आज भी अपने मुकद्दर से शर्त लगाता हूँ..
भरी बरसात में कागज की पतंग उड़ाता हूँ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *