Sitam Shayari – गैरों पे हो रही है

गैरों पे हो रही है हज़ारों नवाज़िशें…!!
अफ़सोस हम सितम के भी क़ाबिल नहीं रहे…!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…