Sitam Shayari – सितम की इंतिहा पर चल

सितम की इंतिहा पर चल रही है
ये दुनिया किस ख़ुदा पर चल रही है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…