Tag: gurur shayari

Guroor Shayari – आज सुबह का सूरज बिलकुल

आज सुबह का सूरज बिलकुल आप जैसा निकला है,
वही खूबसूरती,
वही नूर,
वही गुरूर,
वही सुरूर,
और वही आपकी तरह हमसे बहुत दूर.


loading...

Guroor Shayari – चमक सूरज की नहीं मेरे

चमक सूरज की नहीं मेरे किरदार की है
खबर ये आसमाँ के अखबार की है

मैं चलूँ तो मेरे संग कारवाँ चले….
बात गुरूर की नहीं, ऐतबार की है..