Takleef Shayari – तकलीफ़ मिट गई मगर एहसास

तकलीफ़ मिट गई मगर एहसास रह गया…
ख़ुश हूँ कि कुछ न कुछ तो मेरे पास रह गया…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…