Talash Shayari – एक हमसफ़र की तलाश थी… जो

एक हमसफ़र की तलाश थी…
जो शिद्दत से चाहें…
आखिर कार तन्हाई ने पूरी कर ही दी..!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…