Tamanna Shayari – अब घर भी नहीं घर

अब घर भी नहीं घर की तमन्ना भी नहीं है
मुद्दत हुई सोचा था कि घर जाएँगे इक दिन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…