Tanha Shayari – डूब कर सूरज ने मुझे

डूब कर सूरज ने मुझे और भी तनहा कर दिया,
मेरा साया भी अलग हो गया मेरे अपनो की तरह….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…