Tanhai Shayari – सर्द रातों की तन्हाई में.. दिल

सर्द रातों की तन्हाई में..
दिल अपना कुछ यूँ बहलातें हैं,

कुछ उनका लिखा दोहरातें हैं,
कुछ अपना लिखा मिटाते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…