Udaasi Shayari – शाम की चाय हल्की सी

शाम की चाय, हल्की सी सर्दी, तुम्हारी याद
और यह उदासी, वाकई बागों में बहार है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…