Ulfat Shayari – एक हम ही नहीं तनहा उल्फत

एक हम ही नहीं तनहा
उल्फत में तेरी रुसवा
इस शहर में हम जैसे
दीवाने हज़ारों है …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…