Wajood Shayari – बहुत शौक था हमें सबको

बहुत शौक था हमें सबको जोडकर*
रखने का…..
होश तब आया जब खुद के
वजूद के टुकडे देखे..!!…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…