Waqt Shayari – वक़्त बहुत कुछ छीन लेता है

वक़्त बहुत कुछ, छीन लेता है …
खैर मेरी तो सिर्फ़ मुस्कुराहट थी ….!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *