Zeher Shayari – किस्मत तो लिखी थी मेरी

किस्मत तो लिखी थी मेरी सोने की कलम से,
पर इसका क्या करें कि स्याही में ज़हर था..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *