Zeher Shayari – शराब शराब हैं मैं ज़हर

शराब शराब हैं, मैं ज़हर भी पी जाऊँ,
शर्त ये है कोई बाहों में सम्भाले मुझको..

1 Comment

Add a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *