Zeher Shayari – सोचता हूँ धोखे से ज़हर

सोचता हूँ धोखे से ज़हर दे दूँ..
सभी ख्वाहिशों को दावत पे बुला कर..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *