Zidd Shayari – बरसों बाद भी तेरी ज़िद्द

बरसों बाद भी, तेरी ज़िद्द की आदत ना बदली;
काश हम मोहब्बत नहीं, तेरी आदत होते!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *