Zulm Shayari – अजीब जुल्म करती है तेरी

अजीब जुल्म करती है तेरी यादें मुझ पर,
सो जाऊ तो जगा देती है, और जाग जाऊ तो रुला देती है…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading…